कसूर तो था ही मेरे दिल का | love shayari

 

कसूर तो था ही मेरे दिल का,

जो बिना बताए किसी का होने लगा

कुछ दिनों तक खामोश रहने की ठानी थी,

पर कम्बखत ये दिल इजहार कर बैठा।।


                                                      

Kasur to tha hi mere dil ka

Jo bina bataye kisi ka hone laga

Kuchh dino tak khamosh rehne ki thanee thi

Par kambakhat ye dil ijhaar kar baitha

Post a Comment

0 Comments